sarkariyug.com

किसान क्रेडिट कार्ड योजना


कहने को तो भारत में कृषि रोजगार का सबसे बड़ा जरिया है, वहीँ जीडीपी में इसका योगदान काफी कम है। आज भी भारतीय किसान तकनीकी कृषि साधनो के अभाव में वही पुराने तरीकों से खेती कर रहा है। इस कारण खेती से अधिक लाभ नहीं हो पाता । एक छोटे स्तर के किसान की सालाना आय इतनी भी नहीं हो पाती की वह अपने परिवार का पालन-पोषण ठीक से कर सके। कभी फसल ख़राब हो जाने से तो कभी फसल के अच्छे दाम न मिलने की वजह से किसान ज्यादातर घाटे में रह जाते हैं। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने 2022 तक किसान की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए केंद्रीय सरकार भारतीय किसानो के लिए किसान क्रेडिट कार्ड योजना लेकर आई है।

क्या है किसान क्रेडिट कार्ड योजना ?

यह योजना मूलतः 1998-99 में केंद्रीय सरकार द्वारा किसानो के हित में लागु की गई थी जिसका मकसद किसानो को आसानी से कर्ज की सुविधा मुहैया करवाना था। अब किसान क्रेडिट कार्ड को प्रधान मंत्री किसान योजना से जोड़कर उसका नवीनीकरण किया गया है। जहाँ पहले किसान केवल फसल और किसानी से जुड़े उपकरणों के लिए कर्ज ले सकते थे वहीँ अब वे अपने निजी खर्च के लिए भी एक निर्धारित प्रतिशत का कर्ज ले सकते हैं। किसान 5 वर्षो में 3 लाख तक का लोन किश्तों में ले सकता है जिसपर लगने वाला ब्याज दर बहुत ही कम होगा। किसान क्रेडिट कार्ड का मकसद किसान की कृषि से जुडी जरूरतें जैसे की बीज, खाद, सिचाईं की व्यवस्था तथा अन्य कृषि सम्बंधित जरूरतों को पूरा करना है।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना के लाभ :

किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने पर किसान निम्नलिखित लाभ के हकदार हो सकते हैं:

• किसान क्रेडिट कार्ड की मदद से किसान बिना सिक्योरिटी के 1 लाख 60 हजार तक का कर्ज ले सकता है।

• समय पर कर्ज चुकाने पर कर्ज की राशि 3 लाख तक बढ़ाई जा सकती है।

• 7 % के दर से ब्याज का भुगतान करना होता है जबकि समय पर किश्ते भरने पर यह ब्याज दर घटकर 4 % हो जाता है।

• किसान कर्ज की राशि का अधिकतम 10 % घरेलु या निजी खर्च में इस्तिमाल कर सकता है।

• रबी और खरीफ की फसलों के लिए किसान 50 -50 हजार तक का कर्ज ले सकता है।

• इस क्रेडिट कार्ड की मदद से कर्ज लेकर किसान आसानी से अपने कृषि उपकरणों की मरम्मत एवं कृषि संबधी अन्य खर्चो को वहन कर सकता है।

• किसान क्रेडिट कार्ड धारकों को दुर्घटना बीमा कवर भी मिलता है जिसके अंतर्गत मृत्यु एवं स्थायी अपंगता होने पर 50 ,000 रुपए जबकि एक अंग या एक आंख को क्षति होने पर 25,000 रुपए के मुआवजे का प्रावधान है।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना में पंजीकरण की पात्रता :

निम्नलिखित व्यक्ति एवं संस्थाएँ किसान क्रेडिट कार्ड बनवा सकते हैं-

• इस योजना के अंतर्गत सभी किसान जिनके व्यक्तिगत खेत हों या फिर समूह में खेती करते हों

• वे व्यक्ति जिनकी व्यक्तिगत जमीन हो

• जो किराये पर खेत लेकर खेती करते हों या साझा खेती करते हों

• किसान स्वयं सहायता समूह

• मछली पालक, समुद्री मछुआरे , मुर्गी पालक और पशु पालक

• किसान को बैंक के परिचालन क्षेत्र का निवासी होना चाहिए

पंजीकरण के लिए जरुरी दस्तावेज़ :

फॉर्म के साथ निम्नलिखित दस्तवेज जमा करना अनिवार्य है :

पहचान प्रमाण, निवास प्रमाण , पासपोर्ट साइज फोटो, जमीन के कागजात एवं बैंक अधिकारी द्वारा गए अन्य कागजात।

• पहचान प्रमाण में पेन कार्ड, आधार कार्ड, ड्राइविंग लइसेंस, पासपोर्ट, वोटर कार्ड, मनरेगा के अंतर्गत जारी जॉब कार्ड एवं अन्य दस्तावेज मान्य हैं।

• निवास प्रमाण के रूप में आधार कार्ड, ड्राइविंग लइसेंस, पासपोर्ट, राशन कार्ड, संपत्ति पंजीकरण के कागजात, बैंक अकाउंट स्टेटमेंट, मनरेगा के अंतर्गत जारी जॉब कार्ड एवं अन्य दस्तावेज मान्य हैं।

• 4 पासपोर्ट साइज फोटो

• जमीन के कागजात

• इनके साथ बैंक अधिकारी जरूरत अनुसार अन्य दस्तावेज प्रस्तुत करने के लिए भी कह सकते हैं।

किसान क्रेडिट कार्ड पंजीकरण की प्रक्रिया :

• किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने की विधि बहुत ही साधारण है। किसान ऑनलाइन अथवा नजदीकी बैंक शाखा में जाकर, अपनी सुविधानुसार किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकता है।

• जिस बैंक से आपको किसान क्रेडिट कार्ड बनवाना है उसकी ऑफिसियल वेबसाइट पर जाएँ।

• क्रेडिट कार्ड्स की सूचि में से किसान क्रेडिट कार्ड सेलेक्ट करें और अप्लाई कर दें ।

• अब ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म खुल जायेगा, इसमें पूछी गई सभी जानकारी ध्यानपूर्वक भर दें ।

• भरा हुआ फॉर्म जमा करने के बाद आपको एक एप्लीकेशन रिफरेन्स नंबर मिल जायेगा। इसकी सहायता से आप भविष्य में कार्ड से सम्बंधित जानकरी प्राप्त कर सकते हैं ।

• आमतौर पर 3 -4 कार्य दिवस में एप्लीकेशन विवरण वेरीफाई हो जाता है।

• एप्लीकेशन वेरीफाई होने के बाद बैंक आपको इस्तिला करेगा तथा जरुरी दस्तावेज जैसे की पहचान पत्र, निवास प्रमाण पत्र, जमीन के कागजात , पासपोर्ट साइज फोटो तथा अन्य जरुरी जमा करने को कहेगा।

• इसके बाद आपका किसान क्रेडिट कार्ड बन जायेगा।

बैंक शाखा में जाकर पंजीकरण की प्रक्रिया :

• किसान को नजदीकी बैंक शाखा में जाकर वहां से किसान क्रेडिट कार्ड का फॉर्म लेना होगा।

• फॉर्म को ध्यानपूर्वक भरकर शाखा में हे जमा करना होगा।

• साथ में मांगे गए दस्तावेज भी जमा करने होंगे।

• कार्ड बनने पर बैंक आपको इसकी जानकारी देगा।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना - जरुरी लिंक :

https://pmkisan.gov.in/ इस लिंक पर जाकर आपको किसान क्रेडिट कार्ड योजना एवं अन्य सभी किसान एवं कृषि सम्बन्धी योजनाओं की जानकारी मिल जाएगी।

उम्मीद है की ये लेख पढ़ने के बाद किसान क्रेडिट कार्ड योजना को समझना आपके लिए आसान हो गया होगा।

View similar post

Comments ()

Leave a comment

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है

सुकन्या समृद्धि योजना केंद्रीय सरकार द्वारा 2015 में शुरू की गई एक छोटी बचत योजना है। आज के बढ़ती महंगाई के दौर में यह निचले वर्ग तथा माध्यम वर्ग के लिए अत्यंत लाभका ...

किसान क्रेडिट कार्ड योजना

कहने को तो भारत में कृषि रोजगार का सबसे बड़ा जरिया है, वहीँ जीडीपी में इसका योगदान काफी कम है। आज भी भारतीय किसान तकनीकी कृषि साधनो के अभाव में वही पुराने तरीकों से ...

अटल पेंशन योजना

आज के महंगाई और अनिश्चितता के दौर में आने वाले कल के बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता। ऐसे में आने वाले कल के बारे में गंभीरता से सोचना और भी जरुरी हो जाता है। आज आय ...